मंगळवार, ३ सप्टेंबर, २०१९

मैं किस्सों में बसता हूँ




उलझा उलझा रहता हूँ 
अफवाओं में घुलता हूँ।   

और उछालो जी भर के  
कीचड़ में ही खिलता हूँ।  

आँख नही लगने वाली  
मैं सपनों से डरता हूँ। 

मौत कहाँ छू पाएगी   
मैं किस्सों में बसता हूँ। .. 

हमप्यालों से क्या लेना
मैं साकी पे मरता  हूँ।     ..

एक ख़बर ऐसी भी है 
मैं ख़बरों में रहता हूँ।  

देखा उनका नंगापन 
कपडे मैं ही सिलता हूँ।  

उम्मीदों का मालपुआ 
रोज सवेरे तलता हूँ।  

सुनने वाला कोई नहीं        
खुद अपने को छलता हूँ।  

इस महफ़िल में नूर कहाँ   
आतिशीं को तरसता हूँ।  

- श्रीधर जहागिरदार 
१-९-२०१९

कोणत्याही टिप्पण्‍या नाहीत:

टिप्पणी पोस्ट करा